यह तब होता है जब स्वीडन एक चुनाव के लिए तैयार होता है जिसमें बंदूक हिंसा मतदाताओं की चिंताओं में सबसे ऊपर है।