दो कतरी हमें बताते हैं कि कैसे देश के रूढ़िवादी कानून और रीति-रिवाज समलैंगिक लोगों और महिलाओं को प्रभावित करते हैं।