मानवाधिकार प्रचारकों का कहना है कि यह महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की स्मृति पर एक धब्बा है।