यह बमबारी सैन्य शासन द्वारा पिछले साल तख्तापलट में सत्ता पर कब्जा करने के बाद से सबसे घातक हवाई हमला था।