दर्जनों लोग चटाई पर बैठे थे और फलों की बोरियां और पानी की बोतलें लेकर अपने रिश्तेदारों के नाम का इंतजार कर रहे थे।