इसका मतलब है कि वह कंपनी का एकमात्र निदेशक बनकर कंपनी पर अपना नियंत्रण मजबूत करता है।